CTET Exam 2021: पर्यावरण शिक्षा शास्त्र के अंतर्गत ऐसे प्रश्न पूछे जाते हैं!!

पर्यावरण शिक्षा शास्त्र MCQ (Paryavaran Shiksha Shastra)

इस पोस्ट में हम पर्यावरण शिक्षा शास्त्र  mcq (paryavaran shiksha shastra mcq)  से संबंधित बहुविकल्पीय प्रश्न आपके साथ शेअर कर रहे है हैं। जैसा कि हम सभी जानते हैं। कि पर्यावरण शिक्षा शास्त्र (EVS Pedagogy Quiz In Hindi) से संबंधित प्रश्न TET परीक्षा जैसे-CTET, TET, UPTET  में पूछे जाते हैं। अतः यह टॉपिक हमारे लिए महत्वपूर्ण हो जाता है। और अधिकांश अभ्यार्थी इसमें स्कोर करने के लिए काफी कठिनाइयों का अनुभव करते हैं।

इसी को ध्यान में रखते हुए हमने पर्यावरण शिक्षा शास्त्र mcq (Environmental pedagogy question and answer in hindi) संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न तैयार किए है। जो कि आने वाली सभी टीईटी परीक्षा की द्रष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है

EVS Pedagogy MCQ Questions 

प्रश्न- पर्यावरण अध्ययन की अतः विषयी प्रकृति पर्यावरणीय मुद्दों को द्वारा संबोधित करती है।

(1) सामाजिक विज्ञान और पर्यावरण शिक्षा की विषय-वस्तु और पद्धति के प्रयोग

(2) विज्ञान और समाजिक विज्ञान की विषय-वस्तु और पद्धति के प्रयोग

(3) विज्ञान की विषय-वस्तु और पद्धति के प्रयोग

(4) विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और पर्यावरण शिक्षा की विषय- वस्तु और पद्धति के प्रयोग

Ans: (4)

व्याख्या- पर्यावरण अध्ययन की अन्तःविषयी प्रकृति पर्यावरणीय मुद्दों को विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और पर्यावरण शिक्षा की विषय- वस्तु और पद्धति के प्रयोग द्वारा सम्बोधित किया जाता है।

प्रश्न-  कक्षा 5 के शिक्षक एक सवाल देते हैं : पेड़ों के पाँच लाभ लिखिए। जबकि कक्षा के शिक्षक निम्न सवाल देते हैं : क्या होगा अगर धरती पर कोई पेड़ न हो? इन सवालों की प्रकृति कैसी है?

(1) मुत्त अंत वाला, अभिसारी है और बद्ध अंत वाला, अपसारी है

(2) बद्ध अंत वाला, अभिसारी है और मुत्त अंत वाला, अपसारी है

(3) मुत्त अंत वाला, अपसारी है और बद्ध अंतवाला, अभिसारी है

(4) बद्ध अंत वाला, अपसारी है और मुत्त अंत वाला, अभिसारी है।

Ans: (4)

व्याख्या- जब किसी प्रश्न का उत्तर निश्चित सीमा में बांध कर नहीं लिखा जाता है वह मुत्त अन्त वाला अभिसारी प्रकृति का होता है। जबकि निश्चित सीमा तथा अनिवार्य शर्त के अनुसार लिखा जाए तो वह बहुमत वाला अपसारी प्रकृति का होता है। कक्षा 5-अ के सवाल के अनुसार पेड़ के लाभ लिखना किसी निश्चित सीमा का निर्धारण नही करता अतःयह मुत्तअन्त वाला अभिसारी प्रकृति का है। जबकि कक्षा 5-ब के सवाल के अनुसार अगर पृथ्वी या पेड़ न बचे तो धरती पर क्या होगा। यहाँ पेड़ न होना एक अनिवार्य शर्त लगा दी गई अतःयह बहु अन्त वाला अपसारी प्रकृति है।

प्रश्न-  कक्षा 5 की शिक्षिका एक एल्युमीनियम फा इल लेती है ओर पानी में डाल देती है एवं दिखाती है कि वह ऊपर तैरता है। फिर वह फा इल को मरोड़कर जोर से दबाती (निचोडत्रती) है और फिर से पानी में डालती है तथा शिक्षार्थियों को दिखाती है कि वह डूबता है। बाद में ‘वह शिक्षार्थियों को यह सोचने और कारण देने के लिए कहती है कि ऐसा क्यों हुआ। इस प्रशन का उत्तर देने में निम्नलिखित में से कौन-से प्रक्रमण कौशल का प्रयोग किया जाएगा?

(1) वर्गीकरण

(2) परिकल्पना

(3) अवलोकन

(4) मापन

Ans: (3)

व्याख्या- किसी घटना को देखकर उसके कारण का पता लगाना अवलोकन कौशल कहलाता है। अतःकक्षा 5 के विद्यार्थियों के सामने शिक्षिका द्वारा जो घटना दिखाई गई उस घटना पर विद्यार्थी अपने विचार तथा घटना के कारणों को अवलोकन कौशल के द्वारा व्यत्त करेंगे।

प्रश्न- पर्यावरण अध्ययन के शिक्षा-शास्त्र के संदर्भ में, सिवाय के, निम्नलिखित सभी वांछनीय अभ्यास हैं।

(1) बच्चे की अस्मिता (व्यत्तित्व) का पोषण करने

(2) आलोचनात्मक चिंतन ओर समस्या-समाधान के लिए क्षमता -संवर्धन करने

(3) वास्तविक अवलोकन के स्थान पर पाठ्य-पुस्तकीय ज्ञान की श्रेष्ठता को स्वीकार करने

(4) पाठ्य-वस्तुओं और संदर्भो की बहुलता को बढ़ावा देने

Ans: (3)

व्याख्या- पर्यावरण अध्ययन के शिक्षा शास्त्र में बालकों को पाठ्य पुस्तकों से सम्बन्धित वास्वविक घटनाओं का ज्ञान कराया जाता है जिससे छात्रों में आलोचनात्मक चिंतन तथा समस्या समाधान (Problem solving) की क्षमता में वृद्धि हो सके तथा बालक पर्यावरण अध्ययन को अन्य विषयों के साथ सह संबंध स्थापित करने में कठिनाई का सामना न कर सके।

प्रश्न- निम्नलिखित में से कौन-सा कथन आकलन प्रक्रियाओं के बारे में सबसे कम उपर्युत्त है?

(1) सीखने के संकेतकों और उप-संकेतकों की सूची बनाना रिपोर्टिंग को अधिक विस्तृत बनाता है।

(2) बच्चे को निजी विवरण और वैयत्तिक पृष्ठपोषण (फीडबैक) देना वांछनीय अभ्यास है।

(3) ‘ठीक’, ‘अच्छ’ ओर ‘बहुत अच्छा’ जैसी टिप्पणियाँ बच्चे के सीखने के बारे में एक समझ प्रदान करती है। \

(4) बच्चों के पोर्टफोलिंयो में केवल उनके सबसे बेहतर कार्य न होकर सभी तरह के कार्य होने चाहिए।

Ans: (2)

व्याख्या-  आकलन प्रक्रिया (Assessment procedure) में बच्चों को निजी विवरण (Personal details) और वैयत्तिक पृष्ठपोषण (Individual feedback) देना वांछनीय अभ्यास नही है। यह स्थैतिक होता है। अतःयह कम उपयुत्त होता है।

प्रश्न- दिए गए प्रश्न को ध्यान से पढ़िएः ‘‘क्या आपने अपने घर या स्कूल के आस-पास जानवर देखे हैं जिनके छोटे बच्चे हैं? अपनी नोटबुक में उनके नाम लिखिए।’’ इस प्रश्न के माध्यम से किस प्रक्रमण कौशल का आकलन किया गया है?

(1) परिकल्पना एवं प्रयोग करना (2) वर्गीकरण एवं चर्चा

(3) न्याय के लिए सरोकार (4) अवलोकन एवं रिकॉर्डिंग

Ans: (4)

व्याख्याअलग-अलग तथ्यों को देखकर तथा समझ कर अपने नोटबुक पर लिखना अवलोकन एवं रिकार्डिंग कौशल के अन्तर्गत आता है। अवलोकन (Observation) का तात्पर्य देखना एवं समझना है जबकि रिकार्डिंग कौशल देखे गये तथा समझे गये तथ्यों (Facts) को सूचीबद्ध करना होता है।




प्रश्न-  महेश कक्षा 4 के शिक्षक है। वे ‘वृक्ष-संरक्षण’ की अवधारणा पर शिक्षार्थियों को संवेदनशील बनाने के लिए योजना बनाते है। निम्नलिखित में से कौन-सी एक गतिविधि इस उद्देश्य के लिए सर्वाधिक उपर्युत्त है?

(1) एक पौधे को अपनाने ओर उसका पोषण करने के लिए प्रत्येक शिक्षार्थी को अभिप्रेरित करना

(2) वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन करना

(3) पोस्टर प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए शिक्षार्थियों को प्रोत्साहित करना

(4) समूह चर्चा के लिए शिक्षार्थियों के समूह बनाना

Ans: (1)

व्याख्या- वृक्ष संरक्षण (Forest Conservation) की अवधारणा पर शिक्षार्थियों को संवेदनशील बनाने के लिए योजना बनाया जाता है इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए प्रत्येक विद्यार्थी को एक पौधे को अपनाने और उसका पोषण करने के लिए अभिप्रेरित करना सर्वाधिक उपयुत्त होगा।

प्रश्न- ‘प्रयोग करना’ आकलन का एक संकेतक है। निम्नलिखित में से कौन-सा एक प्रयोग करने संबंधी संकेतक का आकलन करने का सबसे उपयुत्त तरीका है?

(1) सृजनात्मक लेखन

(2) चित्र-पठन

(3) निदर्शन/प्रदर्शन

(4) हस्तपरक गतिविधि

Ans: (4)

व्याख्या- हस्तपरक (hands or activity) गतिविधि संकेत के आंकलन करने का सबसे उपर्युत्त तरीका होता है इसे आसानी से प्रदर्शित किया जा सकता है।

प्रश्न-  काँच के जार तथा बोतलों को, उनमें अचार भरने से पूर्व, सूर्य की धूप में अच्छी तरह सुखाया जाता है। ऐसा क्यों है?

(1) उनमें से धूल को हटाने के लिए

(2) उनके तापमान में वृद्धि करने के लिए

(3) नमी को पूर्णतः हटाने के लिए

(4) अचार को स्वादिष्ट बनाने के लिए

Ans: (3)

व्याख्या- काँच के जार एवं बोतलों को, उनमें अचार भरने से पूर्व, सूर्य की धूप में अच्छी तरह से सुखाया जाता है ताकि जार में उपस्थित नमी को पूर्णतःहटा दिया जाये, क्योंकि जार में उपस्थित नमी से अचार खराब हो जाएगा तथा खाने योग्य नहीं रह जाएगा।

प्रश्न-  रेनू की दादी उसे एक सूखा कुआँ दिखाते हुए बताती हैकि 15-20 वर्ष पहले कुएँ में पानी था, लेकिन अब यह पूर्णतः सूख गया हैं। कुएँ में पानी सूखने का/के क्या कारण हो सकता है/सकते हैं? (1) आस-पास के इलाके में बहुत सारे बोरिंग पम्प लग गए हैं। (2) पेड़ों, कुएँ तथा उनके आस-पास के स्थान की मिट्टी को अब सीमेंट से ढक दिया गया है।(3) प्रत्येक व्यत्ति के घर में अब नल होने के कारण कोई भी कुएँ का प्रयोग नहीं करता है।

(1) केवल 3

(2) 1 और 2

(3) केवल 1

(4) केवल 2

Ans: (2)

व्याख्या- कुएँ का पानी सूखने का कारण विकल्प (2) एवं (1) होगा क्योंकिपेड़ तथा कुएँ के आस-पास की मिट्टी को सीमेंट से ढक देने पर पानी रिसकर पृथ्वी के नीचे नहीं जा पाएगा जिससे जल स्त्रोतों का स्तर नीचे गिरता जाएगा और पानी सूख जाएगा। आस-पास के इलाकों में बहुत सारे बोरिंग पम्प लग जाने से पम्पों के द्वारा जल का ज्यादा उपयोग किया जाएगा इस क्रिया के द्वारा भी जल स्तर नीचे चला जाएगा और कुएं का पानी सूख जाएगा।

प्रश्न-  बगुला भैंस पर बैंठता है, क्योंकि

(1) बगुला मनोरंजन के लिए भैंस पर बैठता है

(2) बगुला तथा भैंस में सहजीवी का संबंध है

(3) भैंस बगुले को एक स्थान से दूसरे स्थान तक आने-जाने में मदद करती है

(4) बगुला भैंस को डराना चाहता है

Ans: (2)

व्याख्या- बगुला तथा भैंस में सहजीवी सम्बंध होता है इसलिए बगुला भैंस पर बैठता है। सहजीवी का मतलब होता है किसी एक जीव का दूसरे जीव पर आश्रित होकर (आंशिक रूप से) अपने जीवन का निर्वाह करते हैं।

प्रश्न-  निम्नलिखित में से जड़ का कौन-सा कार्य पौधे के लिए नहीं है?

(1) ह्यूमस उपलब्ध कराना

(2) भोजन भंडारण/संचित करना

(3) पौधे को सहारा देना

(4) जल तथा खनिजों का अवशोषण करना

Ans: (1)

व्याख्या-जड़ पौधे का बहुत महत्वपूर्ण भाग होता है। जड़ का कार्य पौधों के लिए निम्न होता है निम्ननिखित है- 1. भोजन भण्डारण। 2. पौधों को सहारा देना 3. जल तथा खनिजों का अवशोषण करना। जबकि ह्यूमस मिट्टी के द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।

All Subject Pedagogy In Hindi

1. EVS Pedagogy Complete Notes Click Here
2. Maths Pedagogy Complete Notes Click Here
3. Hindi Pedagogy Complete Notes Click Here
4. Science Pedagogy  Notes Click Here
5. English Pedagogy Complete Notes Click Here
6. social science pedagogy  Notes Click Here
7. Sanskrit pedagogy  Notes Click Here




 इस post मे हमने पर्यावरण शिक्षा शास्त्र (mcq)Quiz” आपके समक्ष प्रस्तुत किए हैं अगर आपको यह पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिएगा ,साथ ही आप हमारे फेसबुक पेज को लाइक जरूर कीजिए, इसी तरह के महत्वपूर्ण वन लाइनर्स और स्टडी मैटेरियल एवं सरकारी नौकरी से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियों को प्राप्त करने के लिए आप हमारी वेबसाइट  exambaaz.com को बुकमार्क अवश्य कर लीजिए ,धन्यवाद!!

EVS Pedagogy Notes (*Topic Wise*) Notes

Topic-1 – पर्यावरण अध्ययन की अवधारणा एवं क्षेत्र (Concept and scopes of Evs): click here

Topic-2 –  पर्यावरण अध्ययन का महत्व एवं एकीकृत पर्यावरण अध्ययन(Significance of Evs, Integrated Evs):  click here

Topic- 3 –  पर्यावरण अध्ययन(Environmental studies),पर्यावरण शिक्षा: click here

Topic- 4 –  अधिगम के सिद्धांत (Learning principles): click here

Topic- 5 – अवधारणा प्रस्तुतीकरण के उपागम (Approaches of Presenting Concepts): click here

Topic- 6 – पर्यावरण अध्ययन की शिक्षण अधिगम की विधियां(environment teaching method in Hindi) : Click here

Topic – 7 – EVS Pedagogy Activities (क्रियाकलाप) click here

Topic -8 & 9 – Practical Work And Steps In Discussion  Click here

Topic – 10  पर्यावरण अध्ययन में सतत एवं व्यापक मूल्यांकन(C.C.E in Evs) Click here




Related Articles :

To Get the latest updates Please “JOIN OUR TELEGRAM CHANNEL” 

For Latest Update Please join Our Social media Handle

Follow Facebook – Click Here
Join us on Telegram – Click Here
Follow us on Twitter – Click Here



2 thoughts on “CTET Exam 2021: पर्यावरण शिक्षा शास्त्र के अंतर्गत ऐसे प्रश्न पूछे जाते हैं!!”

Leave a Comment

error: Content is protected !!