हिंदी में उपचारात्मक शिक्षण : Remedical teaching In Hindi (Hindi Pedagogy Notes)

upcharatmak shikshan in hindi

हिंदी में उपचारात्मक शिक्षण व निदनात्मक शिक्षण

इस पोस्ट में हम आपके लिए हिंदी में उपचारात्मक शिक्षण(upcharatmak Shikshan)  आप के साथ शेयर कर रहे हैं।  इस पोस्ट में हमने उपचारात्मक शिक्षण  को बहुत ही विस्तार से समझाया है।  इस पोस्ट में हम जानेगे हिंदी में उपचारात्मक शिक्षण,निदानात्मक एवं उपचार शिक्षण का महत्व,उपचारात्मक शिक्षण के उद्देश्य,उच्चारण में उपचारी शिक्षण की आवश्यकताएं,उच्चारण दोष के कारण,उच्चारण संबंधी दोषों का निराकरण के बारे में विस्तार पूर्वक सभी महत्वपूर्ण जानकारी है।हिंदी में उपचारात्मक शिक्षण से विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में जैसे किCTET,UPTET,REET,MPTET,HTET,2nd grade में इससे संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। इन सभी परीक्षाओं की दृष्टि से यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय होता है। आशा है, यह पोस्ट आप सभी के लिए उपयोगी सिद्ध होगी ।आगामी प्रतियोगिताओं के लिए आप सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं !!! 

हिंदी में उपचारात्मक शिक्षण(Hindi me upcharatmak Shikshan)

  • शैक्षणिक निदान का प्रयोजन ही उपचार ही शिक्षा है।  शैक्षणिक निदान द्वारा बालकों की कठिनाइयों का पता लगाकर उन कठिनाइयों को दूर करने के लिए शिक्षक, जो शिक्षण विधियां अपनाता है उसे उपचार शिक्षण कहते हैं।
  • उपचारात्मक शिक्षण के भी अनेक रूप हो सकते हैं- बालक ओं की कठिनाइयों का सामूहिक रूप निवारण और उचित अभ्यास, वैयक्तिक भेदों के आधार पर व्यक्तिगत रूप से बालक की अशुद्धियों का निवारण, उपचार ग्रहों अथवा भाषा प्रयोगशालाओं में बालकों के उच्चारण एवं भाषा संबंधी प्रशिक्षण और अभ्यास।

निदानात्मक एवं उपचार शिक्षण का महत्व (nibandh evam upchar Shikshan ka mahatva)

    • आधुनिक शिक्षण में” निदानात्मक एवं उपचार शिक्षण”  एक नवीन प्रयोग है और इससे उन बालकों को विशेष लाभ होता है।  जो किन्ही कारणों से सीखने की क्रिया में पिछड़ जाते हैं, और अपेक्षित प्रगति नहीं कर पाते।
    • निदानात्मक शिक्षण द्वारा बालक ओं की सीखने संबंधी कठिनाइयों का पता चल जाता है।
    • शिक्षण संबंधी कठिनाई एवं कारणों को दूर करने में समुचित शिक्षण प्रक्रिया अपनाई जाती है, जिससे बालक को अपनी शक्ति एवं योग्यता अनुसार शैक्षणिक प्रगति करने का अवसर मिलता है।
    • अपचारी शिक्षक द्वारा छात्रों की व्यक्तिगत कठिनाई दूर होती है और इस क्रिया से अन्य छात्रों के समय आदि की भी खेती नहीं होती।
    • शिक्षण अधिगम प्रक्रिया में पिछड़े बालकों की हीन भावना दूर हो जाती है और वे समायोजन से बच जाते हैं साथ ही उन्हें आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है और उनके व्यक्तित्व को समुचित विकास करने में सहायता मिलती है।




ये भी जाने : हिंदी भाषा शिक्षण की विधियाँ नोट्स

उपचारात्मक शिक्षण के उद्देश्य (upchar atmak Shikshan ke uddeshya)

upcharatmak shikshan ke uddeshya

उपचारात्मक शिक्षण के प्रमुख उद्देश्य इस प्रकार हैं।

  • विद्यार्थियों के भाषा संबंधी विभिन्न रोगों का निवारण कर के उसे सामाजिक दृष्टि से अधिक कुशल एवं योग्य बनाना।
  • विद्यार्थी की ज्ञान पर अशुद्धि को दूर करना।
  • भाषिक व्याघात  संबंधी दोषों को दूर करना अर्थात अपनी मातृभाषा के कारण अल्पप्राण- महा प्राण, घोष –  अघोष के उच्चारण और इस कारण लेखन में होने वाली त्रुटियों को दूर करना।
  • विद्यार्थियों में इस प्रकार की भाषा की आदतों एवं व्यवहार को विकसित करना, जो उस समय तक विद्यार्थी ने नहीं सीखी है।
  • अनुचित भाषण आदतों को दूर करना साथ ही मानक भाषा को विकसित  कर के व्यवहार में स्थायित्व प्रदान करना।

   उच्चारण में उपचारी शिक्षण की आवश्यकताएं (Ucharan Mein upchar Shikshan ki avashyakta)

upcharatmak aahar ki avashyakta

अशुद्ध उच्चारण में भाषा का स्वरूप बिगड़ता है।  विनर शुद्ध उच्चारण ज्ञान के भाषा के शुद्ध रूप का ज्ञान नहीं हो सकता है।  उच्चारण ध्वनियों के आधार पर किया जाता है। ध्वनियों के अशुद्ध उच्चारण सेना भाषा ठीक ढंग से समझी जा सकती है, ना ही उनका   सम्यक एक ज्ञान ही हो पाता है।

    • बाल्यावस्था में ही बच्चों का उच्चारण  शुद्ध अशुद्ध रूप धारण करने लगता है। इस कारण बालकों के उच्चारण पर विशेष बल देना चाहिए।  बचपन से ही अशुद्ध उच्चारण से बचाया जाना चाहिए।
    • अशुद्ध उच्चारण स्थान एवं लेखन कौशल को भी प्रभावित करता है, उन्हें दोषमुक्त बनाए रखने के लिए उपचार शिक्षण आवश्यक होता है।
    • अहिंदी भाषी क्षेत्रों के बालक को पर प्रांतीय भाषाओं का प्रभाव पड़ता है।  वहां में बालकों को हिंदी के उच्चारण में इन प्रांतीय भाषाओं के प्रभाव से बचाना चाहिए।
    • हिंदी भाषा में उच्चारण संबंधी अनेक दोष एवं कठिनाई है। सावधानीपूर्वक इसका  निराकरण करना चाहिए। इसके लिए छात्रों को उच्चारण दोष से मुक्त करना आवश्यक है।




भाषा  दोष

यदि बालक अपने स्वर यंत्र पर नियंत्रण नहीं रख पाता, तो उसमें भाषा दोष उत्पन्न हो जाता है।  भाषा दोष से ग्रसित बालक समाज में असहज महसूस करते हैं। उनमें हीनता की भावना का विकास हो जाता है और वह सामान्यतः अंतर्मुखी स्वभाव के हो जाते हैं।  भाषा दोष शैक्षिक विकास को भी प्रतिकूल रूप से प्रभावित करता है।

मुख्यतः भाषा दोष निम्न प्रकार के होते हैं।

  • ध्वनि परिवर्तन
  • अस्पष्ट उच्चारण
  • हकलाना
  • तीव्र एवं अस्पष्ट वाणी
  • तुतलाना

उच्चारण दोष के कारण

उच्चारण दोष के प्रमुख कारण इस प्रकार है।

(1) शारीरिक कारण

 उच्चारण अंगों कंठ,  तालु, होठ, दांत आदि में विकार के कारण उच्चारण संबंधी दोस्त आ जाते हैं।  इसीलिए वे समृद्धी ध्वनियों का सही उच्चारण नहीं कर पाते हैं।

(2) वर्णों के उच्चारण का  अज्ञान 

हिंदी भाषा की एक विशेषता यह भी है, कि उसका जैसा अक्षर विन्यास है, ठीक वैसे ही वह उच्चारित भी की जाती है।  इसके बावजूद अज्ञान व स्वर्ण बार शब्दों के सही रूप कुछ लोग उपचारित नहीं कर पाते हैं। जैसे- आमदनी को आम्दनी कहना, खींचने को खेचना कहना,प्रताप को परताप कहना,  वीरेंद्र को विरेंदर कहना आदि।

Also Read : hindi pedagogy bhasha kaushal notes

(3) क्षेत्रीय बोलियों का प्रभाव

भाषा का रूप विभिन्न क्षेत्रों में परिवर्तित नजर आता है।  इसका मूल कारण क्षेत्रीय भाषाओं का खड़ी बोली पर प्रभाव है। भोजपुरी बोलने वाले लोग “ने”  का प्रयोग कब करते हैं, तो पंजाबी क्षेत्र के लोग उसका अनावश्यक प्रयोग भी करते हैं। यथा, हमने जाना है। इसी तरह “ने”  के बदले कहीं “ण” का प्रयोग, कहीं “स” के बदले “ह” का प्रयोग, तो कहीं “ए” , “औ” और “न” के बदले “ए” ,”ओ”,”ण” का प्रयोग आदि के कारण उच्चारण संबंधी दोष उत्पन्न होते हैं।

(4)अन्य भाषाओं का प्रयोग

 हिंदी भाषा पर अन्य भाषाओं का प्रभाव भी दिखाई पड़ता।  जिससे उसके उच्चारण पर प्रभाव पड़ता है। उर्दू के कारण हिंदी  का क, ख, ग – .क ,ख़, .ग हो गया है। अंग्रेजी के कारण कॉलेज, प्लेटफॉर्म आदि अनेक शब्द जुड़ गए हैं। अंग्रेजी के कारण  ही ” आ” का उच्चारण “ऑ” होने लगा है।

(5) अध्यापक की अयोग्यता 

उच्चारण सुधार में अध्यापक का महत्वपूर्ण योगदान है।  अगर अध्यापक उच्चारण में सतर्कता नहीं रखता या शुद्ध उच्चारण करने में असमर्थ है, तो  छात्र उसका अनुकरण करके अशुद्ध उच्चारण करना प्रारंभ कर देते हैं।

(6) प्रयत्न- लाघव 

धन्यवाद शब्दों के उच्चारण में पूर्ण सावधानी ना रखने पर गुस्सा आना स्वाभाविक होता है। शब्दों एवं ध्वनियों का उच्चारण पूर्ण रूप से किया जाना चाहिए।  प्रयत्न- लाघव(short-cut) विधि को अपनाने से उच्चारण संबंधी दो आ जाते हैं,यथा परमेश्वर को “प्रमेसर” ,“मास्टर साहब” को ” म्मासाब” आदि।

(7) दोषपूर्ण आदतें 

व्यक्तिगत दोस्तों आदतें भी अशुद्ध उच्चारण का कारण बन जाती है। अनु स्वरों का अधिक उच्चारण इसका प्रचलित रूप है।  जैसे “कहा” को “कहाँ” कहना या अनुस्वरो का लोप जैसे “हैं” को “है” कहना आदि। रुक-रुक कर बोलना, शीघ्रता से बोलना, किसी की नकल करके भी उच्चारण दोष लाने के कारण हैं।

(8) शुद्ध भाषा के वातावरण का अभाव 

भाषा अनुकरण द्वारा सीखी जा। अगर विद्यार्थी को भाषा के  शुद्ध रूप को प्रयोग करने का वातावरण नहीं मिला, तो अशुद्ध उच्चारण स्वाभाविक है। अशुद्ध उच्चारण वाले वातावरण के बीच पलने वाला बालक शुद्ध उच्चारण नहीं कर पाता है।

(9) अक्षरों एवं मात्राओं का अर्थ अस्पष्ट ज्ञान 

जिन छात्रों को अक्षर एवं मात्राओं का स्पष्ट ज्ञान नहीं दिया जाता, उनमें उच्चारण दोष होता है।  संयुक्ताक्षरो के संदर्भ में यह भूल अधिक होती है। जैसे- स्वर्ग को सरग कहना,कर्म को करम कहना, धर्म को धरम कहना आदि ।



उच्चारण संबंधी दोषों का निराकरण

उच्चारण संबंधी दोषों का निराकरण निम्न प्रकार से किया जा सकता है।

(1) उच्चारण अंगों की चिकित्सा

 अगर उच्चारण करने वाले अंग में कोई  दोष हो तो चिकित्सक से चिकित्सा कर आनी चाहिए।  उच्चारण करने में श्वास नलिका, कंठ, जीभ , नाक, तालु,  मूर्धा, दांत आदि की सहायता ली जाती है। इन अंगों में दो जाने पर उच्चारण के प्रभावित होने की संभावना रहती है।   इसलिए इन अंगों में दोष आने पर तत्काल चिकित्सा कर आनी चाहिए।

(2)  पुस्तकों के शुद्ध पाठ पर  बल 

बालक में अनुकरण की अपूर्व क्षमता होती है।  अनुकरण के माध्यम से कठिन से कठिन तथ्य समझ लेता है।  अगर उसे शुद्ध उच्चारण करने वाले लोगों, विद्वानों आदि के साथ रखा जाए, तो उसमें उच्चारण दोष का भय नहीं रहेगा।  उसका उच्चारण रेडियो, ग्रामोफोन, टेप रिकॉर्डर आदि के माध्यम से इसी पद्धति पर सुधारा जा सकता है।

यह भी जाने : हिंदी साहित्य से महत्वपूर्ण प्रश्न

(3) शुद्ध वाचन

 उच्चारण संबंधी दोषों के निराकरण के लिए पुस्तकों का शुद्ध वाचन आवश्यक है। पहले अध्यापक आदर्श वाचन प्रस्तुत करें, इसके उपरांत वह छात्रों से शुद्ध वाचन कराएं।  वाचन में सावधानी रखें तथा अशुद्धियों का निवारण कराएं।

(4) उच्चारण प्रतियोगिताएं  

कक्षा शिक्षण में मुख्यतः भाषा के कालांश में उच्चारण की प्रतियोगिताएं करानी चाहिए।  कठिन शब्द श्यामपट्ट पर लिखकर उनका उच्चारण कर आना चाहिए। शुद्ध शब्द उच्चारण करने वाले छात्रों को पुरस्कृत किया जाना चाहिए।

(5) भाषण एवं संवाद प्रतियोगिता 

भाषण एवं संवाद प्रतियोगिताओं से उच्चारण शुद्ध होते हैं।  निर्णायक मंडल को पुरस्कार देते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि शुद्ध उच्चारण करने वाले छात्रों को ही पुरस्कार या प्रोत्साहन मिले।

(6) हिंदी की  कतिपय विशेष ध्वनियों का अभ्यास  

राजा हिंदी भाषा में स , श एवं ष,न एवं ण, व   तथा ब ,ड तथा ड़, क्ष तथा छ आदि का उच्चारण दोष बालक को में पाया जाता है। जैसे-  विकास का उच्चारण ” विकाश”  महान का उच्चारण ” महाण” , वन का उच्चारण “बन”आदि।  अध्यापक को इस संदर्भ में विशेष जागरूक रहना चाहिए और इस संदर्भ में भूल होते ही निराकरण कर देना चाहिए।

(6)  बल,  विराम  तथा सस्वर  पाठ का अभ्यास 

अक्षरों या शब्दों का उच्चारण ही पर्याप्त  नहीं है, वरन पूरे वाक्य को उचित बल, विराम  तथा सस्वर वाचन के आधार पर पढ़ने का अभ्यास डालना भी आवश्यक है।  शब्दों पर उचित बल देकर पढ़ने से अर्थ भेद एवं भाग वेद का ज्ञान होता है।  विराम के माध्यम से लय , प्रवाह एवं गति का पता लगता है। इसीलिए इन पर विशेष ध्यान देना आवश्यक है।  इससे उच्चारण संबंधी दोषों का निवारण भी होता है।

(7) विश्लेषण विधि का प्रयोग 

कठिन एवं बड़े-बड़े शब्दों बाद ध्वनियों के उच्चारण में विश्लेषण विधि का प्रयोग किया जाए।  इससे अशुद्ध उच्चारण की संभावना कम हो जाती है। पूरे शब्दों को अक्षरों में विभक्त करने से संयुक्ताक्षर हुआ कठिन शब्दों को सहज एवं सहजग्रहा बनाया जा सकता है।

(8)अनुकरण विधि का प्रयोग  

 उच्चारण का सुधार अनुकरण विधि से किया जा सकता है।  अध्यापक कठिन शब्दों का उच्चारण पहले स्वयं करें तथा पुनः कक्षा के बालकों को उसका अनुकरण करने को कहें।  अनुकरण चीन छात्रों को हावभाव, जीव्हा संचालन ,मुखावयव तथा स्वरों के उतार-चढ़ाव का पूर्ण ध्यान रखना चाहिए, ताकि उच्चारण में प्रत्याशित सुधार लाया जा सके।

यह भी पढ़ें: हिंदी के प्रसिद्ध कवि एवं उनकी रचनाएँ

(9)  सभी विषयों के शिक्षण में उच्चारण पर ध्यान

उच्चारण पर ध्यान देना केवल भाषा शिक्षक का ही कार्य नहीं है।  सभी विषयों के शिक्षण में उच्चारण पर अगर ध्यान दिया जाए, तो इसमें सुधार शीघ्रता से होगा।  प्रायः यह कार्य भाषा के अध्यापक का ही माना जाता है, जो एक भूल है। सभी विषयों के अध्यापकों को इस पहलू पर बल देना चाहिए।

(10) वैयक्तिक एवं सामूहिक विधि का प्रयोग

 उच्चारण सुधार के लिए दोनों ही विधियां प्रयुक्त की जाए।  बालक के उच्चारण विशेष संबंधी दोषों के परिष्कार के लिए वैयक्तिक बिधि उपयोगी है।  जब कक्षा के अधिकतर छात्र कठिन शब्दों का उच्चारण नहीं कर, तो ऐसी स्थिति में सामूहिक विधि द्वारा निराकरण किया जाना चाहिए।

(11) स्वराघात  पर बल 

कब किस शब्द पर बल देना है।  इसका उच्चारण में बड़ा महत्व है। यह भाव भेद एवं अर्थ भेद की जानकारी कर आता है। इसीलिए उच्चारण में स्वराघात   पर विशेष ध्यान देना चाहिए। स्वराघात का अभ्यास वाचन के समय, संवाद , नाटक, सस्वर वाचन वैभव अनुकूल वाचन के रूप में कराया जा सकता है।  स्वर के उतार-चढ़ाव पर ध्यान देने में स्वराघात का अभ्यास हो जाता है।

Read Allso: Hindi Pedagogy Free Online Mock Test

उच्चारण संबंधी दोषों के निराकरण में सहायक ध्वनि यंत्र एवं दृश्य श्रव्य उपकरण निम्न है।




  • सिर एवं ग्रीवा का मॉडल , जिसमें उच्चारण स्थल  दर्शाए गए हो।
  • दर्पण( जिस में उच्चारण करते समय बालक अपने उच्चारण स्थल देख सके)।  ग्रामोफोन( शुद्ध उच्चारण के लिए)। लिंगवाफोन( शुद्ध उच्चारण की शिक्षा के  लिए)। टेप रिकॉर्डर( कठिन उच्चारण के आदर्श उच्चारण के अभ्यास के लिए)।
  • काइमोग्राफ अल्पप्राण- महाप्राण, घोष – अघोष, स्पर्श- संघर्षी वरुण गांधी की शिक्षा के लिए यह उपकरण बड़ा ही उपादेय है ।
  • कृतिम तालु ध्वनियों के शुद्ध एवं सटीक उच्चारण के लिए यह उपकरण जिव्हा के ऊपर ताल ऊपर रखा जाता है।

इस पोस्ट में हमने हिंदी में उपचारात्मक शिक्षण(upcharatmak Shikshan)  आप सभी के साथ शेयर किए हैं आशा है यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी!!!

For PDF and More Update Please like our Facebook Page

Related Articles :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here