Personality Meaning And Definition In Hindi (व्यक्तित्व का अर्थ,परिभाषाएं)

Personality Meaning And Definition In Hindi

इस पोस्ट में हम व्यक्तित्व का अर्थ एवं विभिन्न विद्वानों के द्वारा दी गई व्यक्तित्व की परिभाषाओं (Personality Meaning And Definition In Hindi) का अध्ययन करेंगे, जो कि REET एवं अन्य TET परीक्षाओं की दृष्टि से महत्वपूर्ण है।

Personality Meaning (व्यक्तित्व का अर्थ)

 व्यक्तित्व अंग्रेजी के ‘Personality’ शब्द का रूपांतरण है।  अंग्रेजी में पर्सनालिटी शब्द की उत्पत्ति यूनानी भाषा की परसोंना (Persona) शब्द से हुई है।  जिसका अर्थ है- नकाब या मुखौटा अर्थात नकली चेहरा।व्यक्तित्व को इस शब्द के अनुसार बाहरी वेशभूषा तथा दिखावे के आधार पर परिभाषित किया जाता था।  



Personality Definition By Different Authors (व्यक्तित्व की परिभाषाएं )

 विभिन्न मनोवैज्ञानिकों ने व्यक्तित्व की जो परिभाषाएं दी है उन्हें निम्न प्रकार व्यक्त किया जा सकता है। 

1.  डैशियल के अनुसार – ” व्यक्तित्व व्यक्ति के सभी व्यवहारों का वह समायोजित संकलन है, जो उसके  सहयोगियों में स्पष्ट रूप से दिखाई दे।”

2. ड्रेवर के अनुसार – “व्यक्ति के दैहिक, मानसिक, नैतिक तथा सामाजिक गुणों के गतिशील और सुसंगठित संगठन के लिए, व्यक्तित्व शब्द का प्रयोग किया जाता है।”

3.  एलपर्ट के अनुसार “व्यक्तित्व, व्यक्ति में उम्र मनोदय 1 अवस्थाओं का गत्यात्मक संगठन है, जिनके आधार पर व्यक्ति अपने परिवेश के साथ समायोजन स्थापित करता है।”

4.  बिग तथा हंट के अनुसार – “किसी व्यक्ति के समस्त व्यवहार प्रतिमानो  और उसकीविशेषताओं का योग ही उसका व्यक्तित्व है।”

ये भी जाने: मैंक्डूगल की मूल प्रवृत्ति का सिद्धांत



5.  बोरिंग, लैंगफील्ड तथा वेल्ड के अनुसार “व्यक्तित्व से अभिप्राय है- व्यक्ति का अपने परिवेश के साथ स्थाई तथा पूर्व समायोजन।”

6.  वारेन के अनुसार – “व्यक्तित्व व्यक्ति का संपूर्ण मानसिक संगठन है, जो उसके विकास की किसी भी अवस्था में होता है।”

7.  मनु के अनुसार – “व्यक्तित्व, व्यक्ति के सभी पक्षों का एक विशिष्ट संकलन होता है, जो उसके संपूर्ण रूप को कुछ पक्ष, अन्यों की अपेक्षा अधिक विशिष्टता प्रदान करते हैं।”

8. मॉटर्न के अनुसार – “व्यक्तित्व, व्यक्ति की जन्म जात तथा अर्जित स्वाभाव, मूल प्रवृत्तियों, भावनाओं तथा इच्छाओं आदि का योग है।”

9. मन के  अनुसार – “व्यक्तित्व एक व्यक्ति के तरीकों,दृष्टिकोण,क्षमताओं, योग्यताओं तथा अभिरुचि यों का विशिष्टतम संगठन है।”

10.  वुडवर्थ के अनुसार – “व्यक्तित्व व्यक्ति की संपूर्ण गुणात्मकता है।”



 इन परिभाषा उसे व्यक्तित्व की विशेषताओं पर प्रकाश डालने वाले निम्न तथ्य प्रगट होते हैं। 

  • इसमें व्यक्ति के जीवन के सभी पक्ष  सम्मिलित होते हैं। 
  •   वातावरण के साथ अपूर्व समायोजन है। 
  •  यह व्यक्ति की  मनोदैहिक अवस्थाओं का संगठन है। 
  •  वातावरण, व्यक्तित्व  को प्रभावित करता है। 
  •  यह जन्मजात तथा  प्रवृत्तियों का योग है। 
  • इसमें व्यक्ति की गठन, व्यवहार आदि का संगठन है। 
For The Latest Activities And News Follow Our Social Media Handles:




Related articles:

कार्ल रोजर्स का अनुभवजन्य सिद्धांत

जेरोम ब्रूनर का संज्ञानात्मक सिद्धांत

गुथरी का समीपता अनुबंधन का सिद्धांत

सिगमंड फ्रायड का मनोविश्लेषण सिद्धांत

मूल्यांकन का अर्थ, विशेषताएं तथा सोपान

Communication Definition and Types

स्टर्नबर्ग का त्रितंत्र का सिद्धांत (Sternberg’s triarchic Theory of Intelligence)

अल्बर्ट बंडूरा का सामाजिक अधिगम सिद्धांत

क्रियात्मक अनुसंधान के सोपान



Leave a Comment

error: