संस्कृत निबंध: ‘मम प्रियं पुस्तकम्’ || Essay on Pustakam In Sanskrit

Essay on Pustakam In Sanskrit: आर्टिकल में हम संस्कृत भाषा में मम प्रियं पुस्तकम् का निबंध शेयर कर रहे हैं,  जो इस प्रकार है।

मम प्रियं पुस्तकम् (Mam Priya Pustak Essay In Sanskrit)

श्रीमद्भगवद्गीता मम् अत्यन्त प्रियम् पुस्तकम् अस्ति। श्रीमद्भगवद्गीता महर्षिणा वेदव्यासेन विरचिता। गीतायां सर्वत्र भगवानेनव प्रतिपाद्यः अर्जुनस्य दशाम् विलोक्य श्रीकृष्णः अर्जुनस्य प्रबोधपितुम् तस्य अज्ञान अन्धकारम् ज्ञानाञ्जनशलाकया दूरी कर्तुम् गीता ज्ञानामृतं उद्गीर्णवान्। अष्टादश अध्यायेषु विभक्ता श्रीमद्भगवद्गीता अध्यात्म कर्म ज्ञान भक्ति ध्यान संन्यास आदि मार्ग उपदेशिका।        गीतायां सरल पथ दर्शनने सहैव पद्यस्य उत्कृष्टा स्वरूपम् दृश्यते।  श्रीमद्भगवते संस्कृत साहित्ये प्रचलित विषयवस्तु विवेचनम् अत्यन्तम् विशद्रूपेण विद्यते। श्रीमद्भगवद्गीतायाः विश्वस्य सर्वासु भाषासु अनवादो जातः।
संस्कृत निबंध:
» गणतंत्र दिवस पर संस्कृत में निबंध
»संस्कृत में कालिदास का निबंध
»तुलसीदास पर निबंध संस्कृत
»मम दिनचर्या संस्कृत निबंध
»संस्‍कृत भाषाया: महत्‍वम् निबंध:
»संस्कृत भाषा में महाराष्ट्रं पर निबंध:
»पर्यावरण पर संस्कृत मे निबंध 
»महाभारत पर संस्कृत निबंध
»पुस्‍तकालय पर संस्‍कृत निबंध
»Essay on Diwali In Sanskrit
»परोपकार पर संस्कृत निबंध
»गाय (धेनु) का निबंध संस्कृत में

[To Get latest Study Notes  &  NEWS UPDATE Join Us on Telegram- Link Given Below]

For Latest Update Please join Our Social media Handle
Follow Facebook – Click Here
Join us on Telegram – Click Here
Follow us on Twitter – Click Here