Rajasthan ki Janjatiya Gk || राजस्थान की प्रमुख जनजातियां

जाने- राजस्थान की प्रमुख जनजातियां एवं उनके रोचक तथ्य (Rajasthan ki Janjatiya Gk) 

इस पोस्ट मे हम जानेगे राजस्थान राज्य की सभी प्रमुख जनजातियां कौन सी है एवं इनके सभी महत्वपूर्ण तथ्य। साथ है हम जानेगे Rajasthan ki Janjatiya Gk के प्रश्न जो की विगत प्रतियोगी परीक्षाओ मे पूछे गए है। ये जानकारी राजस्थान जीके

के अंतर्गत आगामी राजस्थान पटवार, पुलिस कांस्टेबल, राजस्थान हाई कोर्ट आदि परीक्षाओ के लिए महत्वपूर्ण है।



Whatsapp Group
Telegram channel
  • राजस्थान भारत के 6 जनजातीय बाहुल्य  राज्यों में से एक है।
  •  भील, मीणा, गरासिया, सहारिया, डामोर,कथौड़ी  व कुछ अन्य जनजातियों के लोग निवास करते हैं। 
  •  राज्य का समूचा दक्षिणी पहाड़ी क्षेत्र  एवं दक्षिणी पूर्वी पठारी क्षेत्र का कुछ भाग जनजाति बहुल है। 
  • पूर्व में राजस्थान की अनेक रियासतें मीणा एवं भील लोगों के नियंत्रण में थी। 
  •  संविधान के अनुच्छेद 366 (25) में अनुसूचित जनजातियों  को परिभाषित किया गया है। 
  • भारतीय संविधान के अनुच्छेद 341 के तहत अनुसूचित जातियां व 342 के तहत अनुसूचित जनजातियां अनुसूचीत  की जाती है।  
  •  2011 की जनगणना के अनुसार राज्य के 92.39  लाख (13.48 %)आबादी अनुसूचित जनजातियों की है। 
  •  जनजाति जनसंख्या के आधार पर राज्य का देश में छठा स्थान है एवं अनुपात में 13वा स्थान है। 
  •  राज्य में सर्वाधिक जनजाति जनसंख्या उदयपुर में न्यूनतम बीकानेर में थी। 
  • जनजाति का 95% भाग ग्रामीण क्षेत्र में निवास करता है।
  • राजस्थान में अनुसूचित जनजाति प्रतिशत में बांसवाड़ा(76.4%),डूंगरपुर(70.8%), तथा प्रतापगढ़ (55.46%) जबकि न्यूनतम नागौर(0.30%), बीकानेर(0.30%)है। 

Rajasthan ki Janjatiya Gk

(1) मीणा जनजाति

  • यह राजस्थान की सबसे बड़ी जनजाति है। 
  •  मीणा जनजाति देश की अति प्राचीन जनजाति मानी जाती है। 
  •   इस जनजाति का   गण चिन्ह “मीन”( मछली) था। 
  •  मीणा जनजाति के लोग मुख्यतः उदयपुर,दौसा, प्रतापगढ़, जयपुर, बूंदी, करौली, सवाई माधोपुर, टोंक एवं डूंगरपुर आदि है। 
  • मीणा पुराण में मीणा जनजाति को भगवान मीन का वंशज बताया गया है। 
  • मत्स्य से पुराण में मीणाओ  का उल्लेख मिलता है। 
  •  इस जनजाति के लोग अपने शरीर पर ‘गोदने’ गुदबातें हैं, उस जाति का रिवाज है। 
  •  मीणा जनजाति में पंचायत का मुखिया पटेल कहलाता है। 
  •  इस समुदाय के  लोक देवता बुझ देवता है, यह लोग रेवास( सीकर) में विराजमान जीणमाता उपासक है। 
  • चौकीदार मीणा को ‘नयावासी’ तथा काश्तकार मीणा को पुरानावासी  कहा जाता है। 
  •  गौतम ऋषि ( भूरिया बाबा) मीणा जनजाति के आराध्य देव है। भूरिया बाबा का मेला प्रतिवर्ष गौतम ऋषि मेला सिहोरी में लगता है। 




(2) भील जनजाति

  • भील जनजाति राजस्थान राज्य की दूसरी सर्वाधिक बड़ी जनजाति है। 
  •  इस जनजाति मुख्य अस्त्र तीर कमान  ही है। 
  •  कर्नल टॉड ने भीलो को ‘वन पुत्र’  कहां है। 
  •  महाभारत काल में भीलो को निषाद कहा जाता था। 
  • भील जनजाति राजस्थान के बांसवाड़ा, डूंगरपुर,उदयपुर, प्रतापगढ़ एवं सिरोही जिले में पाई जाती है। 
  • 2011 की जनगणना के अनुसार बांसवाड़ा जिले में भीलो की आबादी (लगभग 13.40 लाख) सर्वाधिक है।
  • भीलो के घर ‘टापरा’  या ‘कू’ कहलाते हैं। टापरा के बाहर बने बरामदे को ‘ढालिया’  कहते हैं।
  •  भीलों में रोग उपचार की विधि को डाम देना प्रचलित है। 
  •   इस जनजाति में पंचायत का मुखिया गमेती कहलाता है।एवं इस जनजाति के मुखिया को तदवी अथवा पालवी  कहते हैं। 
  •  ‘टोटम’ भील जनजाति के कुल देवता  है। 
  • पहाड़ी ढलानो पर की जाने वाली झूमिंग कृषि को भील  लोग चिमाता या वालरा कहते हैं। 
  • भील घरो एक मोहल्ला  कला कहलाता है।
  •  भील  लोग मैदानी  भागों में भी वनों को काटकर भूमि को साफ कर कृषि करते हैं।  जिसे दजिया कहते हैं । 
  •  इस जाति में उंदरिया संप्रदाय की मान्यता है। 
  • भील जनजाति का प्रसिद्ध लोकनाट्य  गवरी या राई है। यह राज्य का सबसे प्राचीन लोकनाट्य है।

(3) सहरिया जनजाति

  • सहरिया जनजाति एक वनवासी जनजाति है।
  • इस जनजाति का मुखिया कोतवाल कहलाता है। 
  •  सहारिया समुदाय में नाता प्रथा प्रचलित है। 
  •  घने वन में निवास करने वाले सहारिया परिवार पेड़ों या बल्लियों पर मचाननुमा छोटी झोपड़ी बनाते हैं।  जिसे ‘गोपाल’ ‘टोपा’   कहते हैं। 
  • ‘कोड़िया देवी’ सहारिया परिवार की कुलदेवी मानी जाती है। 
  •  सहारिया परिवार में लठमार होली की परंपरा प्रचलित है। 
  •  इस जनजाति के नृत्य में पुरुष और स्त्री एक साथ मिलकर नहीं नाचते हैं। 
  • दीपावली के पर्व पर ‘हीड’ गाने  की परंपरा  प्रचलित है। 
  •  सहरिया जनजाति के लोग मकर सक्रांति के अवसर पर डंडों से ‘लेंगी’  खेला जाता हैं। 

ये भी पढे : राजस्थान के लोक देवी-देवताओं के 50 महत्वपूर्ण प्रश्न

(4) गरासिया जनजाति

  •  राजस्थान की मीणा एवं भील जनजाति के बाद तीसरी सबसे बड़ी जनजाति गरासिया जनजाति है। 
  •  गरासिया जनजाति की राज्य में आबादी 3.142 लाख (2011)  मे थी। 
  • सर्वाधिक गरासिया आबादी सिहोरी में 1.53  लाख एवं उदयपुर में 1.04 लाख है।
  • जनरल जेम्स टॉड ने गरासिया जनजाति की उत्पत्ति ‘ गवास’ शब्द से मानी है। 
  • इस जनजाति के लोग मोर  को आदर्श पक्षी मानते हैं। 
  •  लूर,घूमर, वालर,मांदल,कूँद,गौर, जवारा, गोरिया नृत्य इस जनजाति का मुख्य नृत्य है। 
  •  गरासिया जनजाति सफेद रंग की पशुओं को पवित्र मानते हैं। 
  •  होली एवं गणगौर इसकी मुख्य त्यौहार है।गरासिया के सबसे बड़े मेले को मनखारो मेला कहते हैं।  




(5) कथौड़ी जनजाति

  • राजस्थान में वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार कथौड़ी जनजाति की कुल आबादी  मात्र 4833 है
  •  सर्वाधिक  कथौड़ी उदयपुर मे 2488  है।
  • यह जनजाति खैर के जंगलों में कत्था तैयार करने के लिए प्रसिद्ध है।
  •  इस जनजाति की स्त्रियां मराठी अंदाज में साड़ी पहनती है जिससे फड़का कहते हैं।
  •  कथौड़ी जनजाति में मावलिया नृत्य एवं होली नृत्य प्रमुख  होता है। 
  •  इस जनजाति में गहने पहनने का कोई रिवाज नहीं है।

(6) डामोर जनजाति

  •  डामोर जनजाति मुख्यतः डूंगरपुर, बांसवाड़ा और उदयपुर  जिलों में पाई जाती है। 
  •  सर्वाधिक डूंगरपुर जिले में डामोर जनजाति निवास करती है। 
  •  राज्य में कुल ड़ामोर जनसंख्या 91.5  हजार है। 
  •  डामोर के लोग  गुजरात के प्रवासी होने के कारण स्थानीय भाषा गुजराती भाषा का प्रयोग करते हैं।
  • डामोर संप्रदाय के प्रमुख मेले- पंचमहल (गुजरात) में छैला बाबा जी का मेला तथा डूंगरपुर( राजस्थान) में ग्यारस की रेवाड़ी का मेला जो कि सितंबर माह में भरता है। 

ये भी जाने:राजस्थान की पंचवर्षीय योजनाएं एक नजर में

(7) कंजर जनजाति 

  • राजस्थान में कंजर जनजाति भीलवाड़ा,चित्तौड़गढ़, अलवर,अजमेर, बूंदी, टोंक, माधोपुर,बाँरा,बांसवाड़ा आदि जिलों में  निवास करती है। 
  •  कंजर जाति के मुखिया को पटेल कहा जाता है।
  • कंजर जाति की कुलदेवी जोगणिया माता है। 
  • इस जनजाति में महिलाओं द्वारा कमर पर पहने जाने वाला वस्त्र खूसनी कहलाता है। 

राजस्थान की जनजाति से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

 प्रश्न1 ‘ बीजा’ और ‘ माला’  नामक उपजातियां किस जनजाति से संबंधित हैं?
 उत्तर-  साँसी

प्रश्न2  किस जनजाति का उल्लेख मत्स्य पुराण में मिलता है?
उत्तर-  मीणा

 प्रश्न3  वह जनजाति जिसमें पुरुषों द्वारा स्त्रियों की भांति आभूषण पहनने का रिवाज है?
 उत्तर-  डामोर

 प्रश्न4 ‘ मोरनी मांडणा’  किस जनजाति से संबंधित है?
 उत्तर-  मीणा

 प्रश्न5  माडा खंडों में किस जनजाति का बाहुल्य है?
 उत्तर-  मीणा

  प्रश्न6 केरीभात ओढ़नी किस जाति की स्त्रियों में लोकप्रिय है?
 उत्तर-  आदिवासी महिलाएं

 प्रश्न7 ‘ फाइरे-फाइरे’  किस जनजाति का रण घोष है?
 उत्तर-  भील

 प्रश्न8 जनजाति के खिलाड़ियों को परंपरागत तीरंदाजी में प्रशिक्षण देने हेतु राजस्थान में’ तीरंदाजी खेल अकादमी’ की स्थापना कहां पर की गई है?
 उत्तर-  उदयपुर

 प्रश्न9  राजस्थान में कौन सा समुदाय घुमक्कड़ है?
 उत्तर- गाड़िया लोहार

 प्रश्न10 उदयपुर, सवाई माधोपुर, डूंगरपुर और बांसवाड़ा में कौन सा एक जनजाति उपयोजना में शामिल नहीं है?
 उत्तर-  सवाई माधोपुर

 प्रश्न11  भीलो के घर कहलाते हैं?
 उत्तर- कू 

 प्रश्न12  मीणा जनजाति प्रचलित नृत्य किस जनजाति की वंशज होने का दावा करती है। संस्कृत भाषा का मत्स्य शब्द का है?
 उत्तर-  भगवान विष्णु के मछली अवतार को संदर्भित करता है। 

 प्रश्न13  राजस्थान जाट क्षेत्रीय सभा की स्थापना कब हुई?
 उत्तर- 1931 

 प्रश्न14  जनजाति वर्ग के उत्थान के लिए गोविंद गुरु ने किस संस्थान की स्थापना की?
 उत्तर-  सम्प  सभा

 प्रश्न15  मेवाड़ क्षेत्र में राजस्थान की जनजातीय क्षेत्रों में ” मौताणा” नामक एक परंपरा प्रचलित है।  इसका शाब्दिक अर्थ क्या है?
 उत्तर-  मृत्यु धन

 प्रश्न16 जनगणना 2011 के अनुसार जनजाति वर्ग की आबादी के अनुसार राजस्थान का भारत में कौनसा स्थान है?
 उत्तर-  चौथा


 प्रश्न17 भील जनजाति में  कछाबू कौन पहनता है?
 उत्तर-  महिलाएं

 प्रश्न18  राजस्थान में सहरिया जनजाति पाई जाती है?
 उत्तर- बाराँ के शाहजहां और  किशनगंज तहसीलों में

प्रश्न19  राजस्थान में  किस जनजातियों का संख्या की दृष्टि से दूसरा स्थान है?
 उत्तर-  भील

 प्रश्न20  आबू पर्वत के पूर्व में फैली पहाड़ियों में ‘ भाखर पट्टा’ कहे जाने वाले क्षेत्र में कौन सी जनजाति निवास करती है?
 उत्तर-  गरासिया जनजाति

ये भी जाने : राजस्थान के प्रमुख लोकगीत

  प्रश्न21 जैसलमेर की ‘ लंगा’ जाति की पहचान क्या है?
 उत्तर-  लोक गायक के रूप में

 प्रश्न22  सहरिया जनजाति पहाड़ों पर जो छोटी झोपड़ी नुमा घर बनाती है उसे क्या कहा जाता है?
 उत्तर-  गोपाना, कोरूआ, टोपा

 प्रश्न23 राजस्थान की आदिवासी महिलाओं में ‘ कटकी’ वस्त्र  कौन पहनता है?
 उत्तर-  अविवाहित महिलाएं

 प्रश्न24 माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध संस्थान कहां पर स्थित है?
 उत्तर-  उदयपुर में 

प्रश्न25  आदिवासी सभ्यता में लोकाई का आशा है?
 उत्तर-  मृत्यु भोज

 प्रश्न26  हारी-भावरी कृषि का रूट किस जनजाति में प्रचलित है?
उत्तर-  गरासिया

 प्रश्न27  गुरु गोविंद गिरी द्वारा स्थापित सम्प सभा का प्रथम सम्मेलन कहां पर हुआ?
 उत्तर-  मानगढ़ की पहाड़ियों पर 

प्रश्न28 भील क्षेत्र में ‘बावजी’ के नाम से जाने जाते हैं?
उत्तर-  मोतीलाल तेजावत

 प्रश्न29 आदिवासी जातियों में पत्नी अपने पति को छोड़कर दूसरे पुरुष के साथ रहने लग जाती है इस प्रथा को कौन सी प्रथा कहते हैं?
 उत्तर-  नाता प्रथा

 प्रश्न30 राजस्थान की वह कौन सी जनजाति है जो अपने मकान के दरवाजे बंद नहीं रखती है?
 उत्तर-  कंजर


 प्रश्न31  राजस्थान में सर्वाधिक प्रचलित वाली अनुसूचित जनजाति है?
 उत्तर- मीणा

इस पोस्ट मे हमने राजस्थान की प्रमुख जनजातियां (Rajasthan ki Janjatiya Gk) एवं इनसे संबन्धित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर आपके साथ शेअर किए है।  जो की निश्चित ही आपके आगामी प्रतियोगी परीक्षा मे उपयोगी होंगे। इसी तरह की नवीनतम जानकारी प्राप्त करते रहने के लिए आप हमारे facebook page को लाइक जारूर करे ताकि आपको सभी प्रतियोगीपरीक्षाओ की जानकरी आसानी से प्राप्त हो सके।

Read Also :