Summits And Conference of Environment (Complete Information*)

Summits And Conference of Environment

पर्यावरण से संबंधित अंतरराष्ट्रीय संगठन एवं सम्मेलन

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपके साथ पर्यावरण से संबंधित होने वाले अंतरराष्ट्रीय संगठन एवं सम्मेलन(Summits & Conference of Environment ) को आपके साथ शेयर कर रहे हैं। जैसा की आप सभी को पता होगा, कि विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में पर्यावरण से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।  इसके अंतर्गत पर्यावरण से संबंधित संगठन एवं सम्मेलन(international conferences on environment) से संबंधित प्रश्न भी अक्सर परीक्षाओं में पूछे जाते रहे हैं।  तो इसी को ध्यान में रखते हुए हमने इस आर्टिकल में आपके साथ पर्यावरण से संबंधित होने वाले सम्मेलन एवं अंतरराष्ट्रीय संगठन(list of environmental summits) के बारे में सभी जानकारी इस आर्टिकल में  आपको प्राप्त होगी। 

इस आर्टिकल में हम जानेंगे पर्यावरण से संबंधित अंतरराष्ट्रीय संगठन एवं सम्मेलन(Summits And Conference of Environment ) जैसे कि संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम(UNEP),International Union for conversation of nature (IUCN),World Wildlife Fund (WWF) , विश्व मौसम  विज्ञान संगठन (WMO) ,पर्यावरण एवं विकास का विश्वव्यापी आयोग (WCED),W.N.D- World nature organisation ,विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ,दक्षिण एशिया वन्यजीव प्रवर्तन नेटवर्क(SAWEN),अंतरराष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय लकड़ी संगठन (I.T.T.O),आर्द्रभूमि अंतरराष्ट्रीय(Wetlands International), अंतरराष्ट्रीयपक्षी जीवन (BLI) जैसे सभी महत्वपूर्ण सम्मेलन एवं अंतरराष्ट्रीय संगठन(Summits & Conference of Environment ) के बारे में संपूर्ण जानकारी आशा है, यह आर्टिकल आप सभी के लिए उपयोगी साबित होगा आगामी सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए आप सभी को शुभकामनाएं!!!



Environmental summits(antarrashtriya paryavaran sammelan)

1  संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम(UNEP)

united nations environment programme in hindi
  • संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम का गठन संयुक्त राष्ट्र महासभा की स्वीडन ( स्टॉकहोम) में मानव पर्यावरण पर हुई कॉन्फ्रेंस 1972 के द्वारा हुआ ।
  • इसका मुख्यालय नैरोबी (केन्या) में है।
  • यह पर्यावरण परीक्षण के लिए अंतर सरकारी उपायों के क्रियान्वयन के लिए उत्तरदाई तथा संयुक्त राष्ट्र की महत्वपूर्ण एजेंसी है।
  • यह विभिन्न पर्यावरण संबंधी कार्यक्रम या संगठन के प्रबंधन का भी कार्य करती है। उदाहरण के लिए- 1988 में जलवायु परिवर्तन पर अंतरराष्ट्रीय पैनल(IPCC) का गठन विश्व मौसम विज्ञान संगठन और UNEP  ने मिलकर ही किया था।
  • 5 जून को मनाए जाने वाला ”विश्व पर्यावरण दिवस” भी UNEP  की ही एक पहल है।
  • “ ग्लोबल-500” पुरस्कार भी इसी संस्था द्वारा दिया जाता है।
  • UNEP का पूरा नाम – United Nations environment programme
Read Also : (All*) Sports Cups and Trophies 2018-19

2 International Union for conversation of nature (IUCN)

international union for conservation of nature
  • यह विश्व का सबसे बड़ा एवं पुराना वैश वैश्विक पर्यावरण कार्यक्रम है।
  • IUCN की स्थापना अक्टूबर 1949 में हुई थी।
  • इसका मुख्यालय  (Gland) स्विट्जरलैंड में है।
  • यह संयुक्त राष्ट्र संघ एवं अन्य अंतर सरकारी एजेंसियों के लिए विश्व वन्यजीव कोष(WWF) के कार्यों के साथ मिलकर वैज्ञानिक रूप से संरक्षण तकनीक को बढ़ावा देता है।
  • यह संस्था 1963 से ही विलुप्त प्राय, असुरक्षित तथा दुर्लभ जीवों तथा पादकों से संबंधित रेड डाटा बुक(Read data book) जारी करती है।
  • IUCN  जैव विविधता संरक्षण के अलग-अलग चार अन्य क्षेत्रों पर भी कार्य करता है।
  1 जलवायु परिवर्तन (Climate change)
  2 संपोषणीय ऊर्जा( Sustainable energy)
  3 आजीविका(Livelihood)
  4 हरित अर्थव्यवस्था (Green economy)
  • IUCN “संयुक्त राष्ट्र महासभा” का पर्यवेक्षक दर्जा (Observe status)  प्राप्त एकमात्र अंतरराष्ट्रीय संगठन है। जो पर्यावरण और जैव विविधता से जुड़े मुद्दे देखता है इस तरह IUNC  संयुक्त राष्ट्र का अंग नहीं है।
Read Also : brand ambassador list 2019

3 World Wildlife Fund (WWF)

  • यह एक अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन है इसकी स्थापना 1961 में Gland स्विट्ज़रलैंड मैं हुई थी।
  • 1986 के बाद इसका नाम वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड फॉर नेचर हो गया।
  • “ विलुप्त प्राय प्राणी ज्वाइट पांडा” वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड का प्रतीक चिन्ह माना जाता है।
  • यह संगठन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वन्यजीवों की देखभाल पर नजर रखती है तथा उनके रखरखाव से जुड़े मानदंडों को पूरा करने में विभिन्न देशों तथा संगठनों को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराती है।
  • यह पर्यावरण के संरक्षण, शोध एवं पुनर्स्थापना के लिए कार्य करती है।
  • World Wildlife Fund  का स्लोगन “For a living planet” है।
  • यह एक प्रकार का कोर्स है जिसका आधी से अधिक हिस्सा व्यक्तिगत, निजी शैक्षिक दान से तथा बाकी हिस्सा अमेरिका, ब्रिटेन व नीदरलैंड से पूरा होता है।
  • भारत में भी WWF India कार्यरत है।
Read Also : India’s Rank In different Index 2019

 4 विश्व मौसम  विज्ञान संगठन (WMO)

  • स्थापना –  23 मार्च 1950
  • मुख्यालय –  जेनेवा, स्विजरलैंड
  • WMO  का कार्य –  वायुमंडल की दशा और व्यवहार का अध्ययन करना।
  • WMO  का पूरा नाम – World Metrological organisation

5 पर्यावरण एवं विकास का विश्वव्यापी आयोग (WCED)

world commission on environment and development
  • स्थापना –  1963
  • WCED  का मुख्य कार्य –  पर्यावरण एवं विकास के मुद्दों के पुनः निरीक्षण तथा उनके लिए प्रस्ताव तैयार करना।
  • WCED – World Commission on environment and development

6 W.N.D- World nature organisation

World nature organisation
  • यह संस्था पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्पित  है।
  • स्थापना – मई 2004
  • उद्देश्य –  ऊर्जा दक्षता एवं सतत ऊर्जा आपूर्ति के साथ “  जलवायु संरक्षण” एवं “ सतत विकास” को बढ़ावा देना।

7 दक्षिण एशिया वन्यजीव प्रवर्तन नेटवर्क(SAWEN)

South Asia wildlife Enforcement network
  • स्थापना –  जनवरी 2011 भूटान से
  • 8 दक्षिण एशियाई देशों का समूह अफगानिस्तान, बांग्लादेश,भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान एवं श्री लंका है।
  • दक्षिण एशिया वन्यजीव प्रवर्तन नेटवर्क वन्यजीवों से संबंधित कानूनों कार्यान्वित  करने का काम देखती है।
  • यह क्षेत्रीय सहयोग द्वारा वन्यजीवों से संबंधित अपराधों को रोकने का कार्य भी करती है।
  • दक्षिण एशिया वन्यजीव प्रवर्तन नेटवर्क  का सचिवालय काठमांडू में है।
  • भारत ने इस व्यवस्था को 13 अप्रैल 2016 को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में अपनाया था।
  • SAWEN –  South Asia wildlife Enforcement network
Read Also : List of Appointments in February 2019

8 अंतरराष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय  लकड़ी संगठन (I.T.T.O)

The International Tropical Timber Organization
  • स्थापना –  1983
  • उद्देश्य – इसका उद्देश्य उष्णकटिबंधीय वन संसाधनों और उनके सतत उपयोग को बढ़ावा देने के लिए कार्य करना
  • मुख्यालय –  याकोहामा( जापान)
  • सदस्य देश –  73 देश
  • यह संगठन जैव विविधता संरक्षण और संकटग्रस्त प्रजाति के अवैध व्यापार पर नियंत्रण स्थापित रखने हेतु ,साइट्स(CITES)और जैव विविधता  अभिसमय(CBD)के साथ संयुक्त कार्यक्रम भी आयोजित करता है।
  • I.T.T.O का पूरा नाम – The International Tropical Timber Organization

 9 अंतरराष्ट्रीय जल प्रबंधन संस्थान (IWMI)

international water management institute
  • स्थापना –  1985
  • मुख्यालय –  कोलंबो( श्रीलंका)
  • उद्देश्य –  इसका उद्देश्य जल और भूमि संसाधनों के सतत उपयोग को  विकासशील देशों में बढ़ावा देता है।
  • इसका काम खाद्य सुरक्षा से संबंधित समस्याओं का भी समाधान करना है।
  • IWMI  का पूरा नाम – International water management institute

10 अंतरराष्ट्रीयपक्षी जीवन (BLI)

  • स्थापना –  1922
  • मुख्यालय –  कैंब्रिज (U.K)
  • उद्देश्य –  पक्षियों और उनके आवासों का संरक्षण कर जैव विविधता को बनाए रखना।
  • B.L.I पूरा नाम – Bird life International
Read Also : Current Affairs 2019 Last 6 Months

11 आर्द्रभूमि अंतरराष्ट्रीय(Wetlands International)

Wetlands International
  • स्थापना –  1996 में नीदरलैंड में
  •  आर्द्रभूमियों के संरक्षण और उनके पुनर्स्थापना के लिए कार्य करने वाली गैर सरकारी और गैर-लाभकारी संस्था है।
  • पूर्व में  आर्द्रभूमियों के संरक्षण से जुड़ी तीन संस्थाएं निम्नलिखित है।
1  International waterfall and wetland Research bureau
2   Asian wetland bureau
3  wetland for the America
  • इन तीनों संस्थाओं  के समान उद्देश्य होने के कारण  1991 में एक साथ मिलकर काम करना शुरू किया जिसे बाद में आर्द्रभूमि अंतरराष्ट्रीय कहा गया।
  • आर्द्रभूमि अंतरराष्ट्रीय संगठन रामसर संधि से संबंधित है ।

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने जाना पर्यावरण से संबंधित होने वाले (list of environmental summits) सम्मेलन एवं अंतर्राष्ट्रीय संगठन के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो, इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए ताकि वह भी इसका लाभ प्राप्त कर सकें।   प्रतियोगी परीक्षाओं से संबंधितमहत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते हैं।  इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद!!! 



For More Update Please like our Facebook Page…

EVS Pedagogy Notes (*Topic Wise*) Notes

Topic-1 – पर्यावरण अध्ययन की अवधारणा एवं क्षेत्र (Concept and scopes of Evs): click here
Topic-2 –  पर्यावरण अध्ययन का महत्व एवं एकीकृत पर्यावरण अध्ययन(Significance of Evs , Integrated Evs):  click here
Topic- 3 –  पर्यावरण अध्ययन(Environmental studies),पर्यावरण शिक्षा: click here
Topic- 4 –  अधिगम के सिद्धांत (Learning principles)click here
Topic- 5 अवधारणा प्रस्तुतीकरण के उपागम (Approaches of Presenting Concepts): click here

Topic- 6 – Teaching Methods of EVS: Click Here 



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here